रवि शास्त्री की जीवनी | Ravi Shastri Biography in Hindi

रवि शास्त्री की जीवनी | Ravi Shastri Biography in Hindi: रवि शास्त्री भारत के प्रसिद्ध पूर्व क्रिकेटर और वर्तमान समय में उम्दा कमेंटेटर हैं। इनके माता-पिता कर्नाटक के रहने वाले थे, पर इनका जन्म मुंबई में हुआ। रवि शास्त्री भारत के प्रसिद्ध पूर्व क्रिकेटर और वर्तमान समय में उम्दा कमेंटेटर हैं। इनके माता-पिता कर्नाटक के रहने वाले थे, पर इनका जन्म मुंबई में हुआ।
रवि शास्त्री की जीवनी | Ravi Shastri Biography in Hindi

रवि शास्त्री की जीवनी(जीवन परिचय) | Ravi Shastri Biography in Hindi

रवि शास्त्री के पिताजी डॉक्टर थे। घर में बच्चों को पढ़ाई की तरफ ज़्यादा से ज़्यादा ध्यान देने को कहा जाता था। जब रवि शास्त्री बहुत छोटे थे तब वे गिल्ली-डंडा, कंचे और फुटबॉल-हॉकी खेलने में ही ज़्यादा समय बिताते थे। उन्हें दोस्तों के साथ बाहर खेलकूद में ही ज़्यादा मजा आता था।

बचपन में रवि शास्त्री के पास ही खेलने का ज़्यादातर सामान था और किसी भी खेल में आउट हो जाने पर वे खेल बंद कर देते थे तो सारे दोस्त उनकी बात मानकर उन्हें एक मौक़ा और दे देते थे। क्रिकेट में भी जब वे आउट हो जाते थे तो बैट लेकर भाग जाते थे।

फिर उनके दोस्त उन्हें घर से मनाकर लाते थे कि अच्छा चलो एक बार बल्लेबाज़ी और कर लेना। ये बातें तबकी हैं जब वे बहुत छोटे थे। फिर बड़ा होने पर उन्हें मालूम हुआ कि हार-जीत खेल का हिस्सा है।

स्कूल में रवि शास्त्री अपनी क्लास में सबसे पीछे की बेंच पर बैठते थे। इसका एक कारण थी आखिरी बेंच के पास की खिड़की। इस खिड़की से वे क्लास से बाहर क्या चल रहा है यह देख पाते थे और जरूरत लगने पर चॉकलेट की पन्नी या फलों के छिलके खिड़की से बाहर भी फेंक सकते थे। वे क्लास में बैठे-बैठे चॉकलेट और दूसरी चीज़ें भी खाते थे।

जब वे स्कूल में थे तो खाने के बहुत-सी चीज़ें अपने दोस्तों के लिए ले जाते थे ताकि वे अपनी चीज़ें एक-दूसरे के साथ बाँट सकें। जब रवि शास्त्री 9वीं में थे, तब स्कूल की क्रिकेट टीम बनी और उनके कोच देसाई सर ने उन्हें क्रिकेट सीखने में खूब मदद की। उनकी वजह से ही वे क्रिकेटर बन सके।

उनकी स्कूल की टीम ने चैंपियनशिप भी जीती थी और वह पहली ट्रॉफी थी जिसने उन्हें बहुत उत्साहित किया था। यह ट्रॉफी जीतने के बाद ही वे तय किये थे कि अब उन्हें एक अच्छा क्रिकेटर बनना है और देश के लिए क्रिकेट खेलनी है। उनका यह निर्णय आगे चलकर सही साबित हुआ और वे देश के लिए क्रिकेट खेला भी। दोस्तो, क्रिकेट से सन्न्यास के बाद भी उन्हें इस खेल से इतना लगाव हो गया है कि अब वे कमेंट्री में भी खूब आनंद लेते है।

क्रिकेट के अलावा,रवि शास्त्री सैलरी,रवि शास्त्री पुरस्कार

रवि शास्त्री ने क्रिकेट से पहले बहुत से खेलों में हाथ आजमाए। जब वे बड़े हो रहे थे तब वे टेनिस भी खेलते थे। खेलों के प्रति रुचि जगाने में उनका स्कूल डॉन बॉस्को का भी बड़ा योगदान रहा, क्योंकि यहाँ उन्हें तरह-तरह के खेलों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाता था। गिल्ली-डंडा और टेनिस से होते हुए सबसे आखिर में उनकी गाड़ी क्रिकेट पर आकर रुकी।

रवि शास्त्री के बारे में पूरी जानकारी:

1.पूर्व भारतीय क्रिकेटर रवि शास्त्री का पूरा नाम रविशंकर जयद्रथ शास्त्री है. उनका जन्म 27 मई, 1962 को मुंबई में हुआ था. 

2. जवानी के दिनों में अपनी शानदार लुक्स की वजह से रवि शास्त्री टीम इंडिया के पोस्टर ब्यॉय थे. लड़कियों में वह खासे पापुलर थे. अमृता सिंह के साथ उनकी रोमांस खासा चर्चा में रहा है.

3. रवि शास्त्री ने अपने करियर की शुरुआत लेफ्ट स्पिनर के तौर पर की थी. शुरुआत में टेस्ट में 10वें नंबर पर बल्लेबाजी करते थे. लेकिन उन्होंने अपनी बल्लेबाजी में शानदार डेवलपमेंट दिखाया और डेब्यू करने के 18 माह के अंदर वे टीम की ओपनिंग करने लगे थे. 4.अपने करियर के अंत में वह नंबर 1 से नंबर 10 तक हर पॉजिशन पर बैटिंग कर चुके थे.

5.ऑस्ट्रेलिया में 1985 में वर्ल्ड चैंपियनशिप में उनका प्रदर्शन सबसे यादगार प्रदर्शनों में से एक है. उन्हें हरफनमौला प्रदर्शन के लिए चैंपियन ऑफ चैंपियन का नाम दिया गया था. उन्हें ईनाम में ऑडी भी मिली थी. उस गाड़ी में बैठकर पूरी टीम ने स्टेडियम का चक्कर लगाया था. 

6.भारतीय क्रिकेट के बेहतरीन ऑलराउंडर में शुमार रवि शास्त्री ने 80 टेस्ट मैच में 11 शतक और 12 अर्धशतक की बदौलत 3830 रन बनाए. वहीं, उनके नाम पर 151 विकेट दर्ज हैं.

7.शास्त्री ने कुल 150 वनडे खेले हैं. उन्होंने 29.04 की औसत से 3108 रन बनाए हैं. वनडे में उनके नाम पर चार शतक हैं. 150 वनडे मैचों में उनके नाम पर 129 विकेट हैं. 

8.क्रिकेट से रिटायरमेंट के बाद उन्होंने कमेंटेटर के तौर पर अपनी पारी शुरू की. क्रिकेट कमेंटेटर के तौर पर रवि शास्त्री खासे पापुलर रहे हैं. 

9.रवि शास्त्री वर्ष 2014 से लेकर 2016 तक भारतीय टीम के डायरेक्टर रहे. 

10. रवि शास्त्री ने 2016 में कोच पद के लिए आवेदन दिया था, लेकिन उनका चयन नहीं किया गया था.
रवि शास्त्री की जीवनी | Ravi Shastri Biography in Hindi रवि शास्त्री की जीवनी | Ravi Shastri Biography in Hindi Reviewed by Admin on March 31, 2018 Rating: 5

No comments:

कॉपीराइट © 2018 - सर्वाधिकार सुरक्षित।

Powered by Blogger.