KYC in Hindi – KYC क्या है

KYC क्या होता : तो आईये दोस्तों आज मैं आपको बताता हु की KYC क्क्य है और ये कैसे काम करता है | अभी कुछ समय में गूगल और other search engine पर सबसे ज्यादा सर्च किया जा रहा है की ये KYC क्या है और ये KYC कहा से अ गया भाई | सभी हेरान है इसको लेकर तो मैंने सोचा की चलो आज मैं अपने रीडर्स को बताता हु की KYC word का full form क्या होता है क्‍या है इसकी प्रक्रिया और क्‍यों माना जाता है इसे महत्‍वपूर्ण जानिए क्‍या होता है KYC.
KYC in Hindi – KYC क्या है
KYC क्या है और इसे क्यों भरवाया जाता है ? बैंक में खाता खोलना हो, फिक्स्ड डिपाजिट बनवाना हो, म्यूच्यूअल फण्ड खरीदना हो या बीमा लेना हो, आपसे KYC फॉर्म भरवाया जाता है. KYC क्या है और इसे क्यों भरवाया जाता है और इसे भरने के लिए कौन कौन से डाक्यूमेंट्स चाहिए होते हैं

KYC in Hindi – KYC क्या है ?

अगर हम इसे KYC को english full form में कहे तो इसका मतलब होगा " Know Your customer " KYC का इंग्लिश form यही होता है और अगर हम KYC को हिंदी में एक्सप्लेन करे तो इसका मतलब होगा "अपने ग्राहकों को जानना या पहचानना " बस इसका इतना सा मतलब होता है |

अब अगर हम इसको समझने की कोसिस करे तो अपने ग्राहक को जानिये. बैंक तथा वित्तीय कम्पनियाँ इस फॉर्म को भरवा कर इसके साथ कुछ पहचान के प्रमाण भी लेतीं हैं जिसके जरिये वे अपने ग्राहक की पहचान की पुष्टि करते हैं. केवाईसी अपने ग्राहकों की पहचान की पुष्टि के लिए एक व्यापार की प्रक्रिया है. भारतीय रिज़र्व बैंक के द्वारा बैंकों के लिए ग्राहकों से केवाईसी भरवाना अनिवार्य किया गया है. 

KYC भरवाने का मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि जाने या अनजाने में अपराधिक तत्व बैंकिंग प्रणाली का अनुचित प्रयोग अपनी गतिविधियों के लिए ना कर पायें. अपराधियों द्वारा नकली पहचान और नकली पते बता कर खाता खोलने की कोई भी कोशिश केवाईसी द्वारा रोकी जा सकती है.

क्‍या है इसकी प्रक्रिया और क्‍यों माना जाता है इसे महत्‍वपूर्ण

बैंक भी अपने ग्राहकों को KYC द्वारा बेहतर तरीके से समझ सकते हैं उनके वित्तीय लेन-देन को समझ उनकी जरूरतों को अच्छे से पूरा कर सकते हैं. बैंक में केवाईसी के लिए ग्राहक के पहचान, नाम पते की पुष्टि करने के लिए फोटो तथा एड्रेस प्रूफ यानी पते का प्रमाण लिया जाता है. 

बैंक में खाता खोलने के अलावा लोन लेने, लॉकर लेने, क्रेडिट कार्ड बनवाने, म्यूच्यूअल फण्ड खरीदने, पोस्ट ऑफिस RD तथा बीमा आदि लेने पर KYC फॉर्म भरने की आवश्यकता पड़ सकती है. बैंक में लेने दें के लिए खाता खुलवाने के लिए केवाईसी फॉर्म भरना अनिवार्य है. यदि आप यह फॉर्म नहीं भरते हैं तो बैंक आपको खता खोलने से मना भी कर सकता है. 

आप ये समझ सकते है आने बाले समय में KYC बहुत ही जरूरी हो सकता है इसके लिए ये जानकारी आप तक पहुचानी जरूरी थी |

आखरी विचार :

मैं जनता हु की आओ अब KYC का सजी मतलब समझ गए होंगे और ये भी जान गए होंगे की KYC किस लिए महत्वपूर्ण है और KYC का इस्तमाल किसके लिए होता है | अगर आप को सच मुझ ये आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप हमारे इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे |

KYC in Hindi – KYC क्या है KYC in Hindi – KYC क्या है Reviewed by Admin on March 20, 2018 Rating: 5

No comments:

कॉपीराइट © 2018 - सर्वाधिकार सुरक्षित।

Powered by Blogger.